Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

Live Radio

सुसनेर से युनूस खान लाला की रिपोर्ट चिरंतन न्युज के लिए

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन वितरण में गड़बड़ियों के मामले सामने आने तथा इस संबंध में लगातार खुलासों के बाद भी प्रशासन के जिम्मेदारों की चुप्पी सवालों के घेरे में है । गड़बड़ियों का यह मामला समाचार पत्रों की सुर्खियां बना हुआ है । इसके बाद भी प्रशासन के जिम्मेदार बोल रहे हैं कि उन्हें तो मामले की जानकारी ही नहीं है । जबकि इस पूरे मामले में करोड़ों का गड़बड़झाला होने की आशंकाएं सामने आ रही है । इसमें सबसे बड़ा सवाल यह है कि परिवहन करता राशन वितरण करता है उसके वाहन पर जीपीएस सिस्टम होना चाहिए ताकि वहांन की लोकेशन का पता लग सके । किंतु क्षेत्र में जो वाहन इस राशन का परिवहन कर रहे हैं उनमें जीपीएस नहीं लगा हुआ है ।स्थानीय प्रशासन के साथ-साथ अभी तक जिला प्रशासन ने भी इस मामले में कोई कदम नहीं उठाया है।

चावल के बाद अब गेहूं के ही गोदामों में ही खराब होने की आशंका

खराब चावल के वितरण के बाद अब क्षेत्र के कई वेयरहाउस जहां 3 लाख क्विंटल से भी अधिक गेहूं रखा हुआ है ।उसके भी खराब होने की आशंकाएं खड़ी होने लगी है कुछ वेयरहाउसओं में तो गेहूं सड गया है । सूत्रों के अनुसार 5 से 10000 क्विंटल गेहूं खराब हो चुका है और उस खराब गेहूं को वेयर हाउस संचालकों द्वारा मजदूरों से छनवा कर उसकी कटिंग करके पुनः बोरियों में भरा जा रहा है जिस बोरी में टांके मशीन से लगाकर संबंधित संस्था की पर्ची मशीन से सिली जाती है सड़े हुए गेहूं के बोरों को हाथ के टांके लगाकर ग्रेडिंग के बाद सिलवा दिया गया है । वेयरहाउसिंग कारपोरेशन के जिम्मेदारों के द्वारा 8 सितंबर को मीडिया की जानकारी दी गई थी कि 35422 क्विंटल गेहूं जो कि वित्तीय वर्ष 2019 का है गोदामों में जमा है और उन्हीं जिम्मेदारों के द्वारा 10 सितंबर को जानकारी दी जाती है कि उनके पास अब केवल 19000 कुंटल गेहूं पिछले वित्त वर्ष का शेष है। सवाल ये उठता है कि महज 3 दिनों में 16000 क्विंटल गेहूं का वितरण किन संस्थाओं को और कैसे कर दिया गया । 
इन वेयरहाउस में जमा है नागरिक आपूर्ति निगम का गेहूं 
नागरिक आपूर्ति निगम के द्वारा स्थानीय कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार बालाजी किसान केंद्र मोडी में 22 हजार 70 क्विंटल , श्री बालाजी वेयरहाउस मोदी में 31630 क्विटल,  संस्कार वेयरहाउस सुसनेर में 28000 कुंटल , अंबिका वेयरहाउस सोयत में 66140 क्विटल , मयुर वेयरहाउस सुसनेर में 35920 क्विंटल , शुभम मशीनरी सोयत में 6220 कुंटल और प्राथमिक सहकारी संस्था सोयत में 8660 क्विंटल, फलोदी वेयरहाउस सोयत में 11300 क्विंटल , एकीकृत जांच चौकी के डूंगर गांव के एक गोदाम में 32340 क्विंटल और दूसरे गोदाम में 30040 क्विंटल गेहूं जमा है । इसके अलावा नागरिक आपूर्ति निगम के गोदामों में गेहूं जमा है इस गेहूं का समय-समय पर निरीक्षण करने की जिम्मेदारी स्थानीय अधिकारियों पर निर्भर है । किंतु उन्होंने पिछले 5 माह में किसी भी जगह पर जाकर निरीक्षण नहीं करते हुए अपने ऑफिस में ही बैठ कर के कागजी खानापूर्ति पूरी की है ।
इनका कहना 
मुझे मामले की जानकारी नहीं है आप बताएं किस सहकारी संस्था से खराब चावल का वितरण हुआ है या हो रहा है उसकी जांच करवा ली जाएगी।
 के एल यादव अनुविभागीय अधिकारी सुसनेर 

आपके द्वारा मुझे मामले की जानकारी दी जा रही है मुझे इस संबंध में अभी तक कोई जानकारी नहीं थी नागरिक आपूर्ति निगम की जिम्मेदारी है कि किसी भी गोदाम से घटिया क्या सड़े हुए राशन का परिवहन ना हो स्थानीय अधिकारी और परिवहन करता को इसका ध्यान रखना चाहिए साथ ही संबंधित खाद्य अधिकारी उनकी भी जिम्मेदारी बनती है अगर दोनों ने अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन नहीं किया यह तो मैं इस संबंध में इन से चर्चा करता हूं ।

आर के शर्मा जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम आगर

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply