Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

Live Radio

जिला जनसंपर्क कार्यालय, धार मध्यप्रदेश शासन:-समाचार

धार 22 अगस्त 2020/ कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय स्थित आपदा नियंत्रण केंद्र को 24 घंटे सक्रिय रखा गया है।जिले के सभी बड़े बांधों एवं जलाशयों पर अमला पूरे समय अलर्ट की स्थिति में रखने संबंधी निर्देश दिए गए हैं। कहा गया है कि नर्मदा घाटी विकास द्वारा बनाए गए कंट्रोल रूम से सतत संपर्क में रहें। बाढ़ की स्थिति में आपात राहत के लिए सभी उपयोगी उपकरण, खोज एवं बचाव दल आदि पूरी तरह तैयार और मुस्तैद रखा जाए। जलभराव और बांधों के गेट खोलने की स्थिति आने पर आवश्यक व्यवस्थाएं के निर्देश संबंधितों को दिए हैं।


      कलेक्टर श्री सिंह ने सभी एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार और अन्य संबंधित अधिकारियों को 24 घंटे अलर्ट पर रहने के निर्देश जारी किए हैं। कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया  कि जिले में कुछ जगह लगातार वर्षा हो रही है इसके लिए सभी अधिकारी अपने क्षेत्रों में सतत रूप से निगाह रखें। लोगों से सतत संपर्क में रहें ,कहीं भी जलभराव की स्थिति होने पर तुरंत कार्यवाही करें, नाले के किनारे रहने वाले लोगों को आवश्यकता होने पर तुरंत पास के स्कूल, सार्वजनिक भवन, सामुदायिक भवनों में पहुंचाएं, वहां पर बिजली,पीने का पानी और खाने की व्यवस्थाओं की तैयारी रखें। उन्होंने कहा यदि किसी नदी या नाले में बाढ़ या पानी भराव की स्थिति निर्मित होती है तो तुरन्त कंट्रोल रूम को अवगत कराएं। आसपास की बस्तियों में पानी की भराव की स्थिति देखते हुए जेसीबी से पानी निकालने के लिए रास्ता बनाएं। पीने की पानी की और खाने की व्यवस्था के लिए तैयारी सुनिश्चित रखें, आवश्यकता होने पर लोगों को पीने का पानी और खाना उपलब्ध कराया जाए।

       जिले में ग्रामीण क्षेत्रों में भी लगातार निगाह रखने के निर्देश दिए गए हैं कि संबंधित अधिकारी क्षेत्रों का भ्रमण करें। वर्षा की स्थिति का आकलन करते रहें, आपात स्थिति से निपटने के लिए एसडीआरएफ की टीम को भी अलर्ट पर रहने के लिए निर्देश दिए गए है। किसी भी स्थिति में जनहानि नहीं हो सुरक्षा के सभी आवश्यक इंतजाम रखे जाए। सभी अधिकारी अपनी गाड़ियों में टॉर्च, रस्सी और पीने के पानी की बोतलें  आवश्यक रूप से रखें। आपात स्थिति निर्मित होने पर तुरंत कंट्रोल रूम को सूचना दें। जहां पानी भराव की स्थिति बनी हुई है वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने की व्यवस्था करें। राहत स्थलों पर भोजन पानी और आश्रय की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा है। बाढ़ की स्थिति की सूचनाओं के आदान-प्रदान एवं समन्वय स्थापित करने के लिए कलेक्टर अपने जिले के अमले के साथ ही सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर के साथ भी सतत संपर्क में हैं।

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply