Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

शाजापुर । कोविड 19 के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम हेतु किल कोरोना 3 अभियान के तहत चल रहे सर्वे में ग्राम एवं समाज के प्रमुख लोग आगे आकर सर्वे दल द्वारा किए जा रहे कार्य में सहायता करें। यह अनुरोध प्रदेश के स्कूल शिक्षा स्वतंत्र प्रभार एवं सामान्य प्रशासन राज्यमंत्री तथा कोरोना जिला प्रभारी इंदरसिंह परमार ने शुजालपुर में संपन्न हुई संकट प्रबंधन समूह की बैठक में किया। इस दौरान कलेक्टर दिनेश जैन भी मौजूद थे। राज्यमंत्री परमार ने कहा कि हमें समाज के लोगों को हर हाल में बचाना है, इसलिए गांव एवं शहर में किल कोरोना 3 अभियान संचालित किया जा रहा है। इसके तहत सभी गांवों के सभी घरों के सर्वे के लिए दल बनाए गए हैं। यह दल घर-घर जाकर परिवार के सभी सदस्यों की जानकारी लेगा। यदि कोई व्यक्ति बीमार है तो उसका नाम दर्ज किया जाएगा। इस तरह बीमार व्यक्तियों की जानकारी प्राप्त होने के बाद एक पर्यवेक्षण दल गठित किया गया है जो बीमार व्यक्ति के घर जाकर उसे मेडिकल किट उपलब्ध कराएगा और बीमार व्यक्ति की स्थिति का आंकलन करेगा। बीमार होने पर उसका टेस्ट करवाएंगे।

मंत्री ने कहा कि आमतौर पर लोग बीमार व्यक्ति की जानकरी छुपा लेते हैं, इस तरह जानकारी छुपा लेने से कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। इसके लिए गांव एवं समाज के प्रमुख व्यक्ति ग्रामीणों को जानकारी नहीं छुपाने और सही-सही जानकारी दर्ज करवाने के लिए प्रेरित करें, ताकि कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद मिले। उन्होने कहा कि संक्रमित व्यक्ति एवं उसके परिवार के लोग यहां-वहां नहीं घूमें इसकी समुचित व्यवस्था भी समाज के लोगों को करना होगी। इसके बाद भी यदि लोग नहीं मानते हैं तो फिर सख्ती बरती जाएगी। हमें कोरोना को हर हाल में हराना है। राज्यमंत्री परमार ने कहा कि कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को तोडऩे के लिए हम सब प्रयास करेंगे। गांव में बड़ी संख्या में लोग बीमार हैं, किन्तु वे जानकारी छुपा लेते हैं और स्थानीय तौर पर अपना आसपास के किसी गैर चिकित्सक से उपचार कराते हैं, जिससे वे और ज्यादा बीमार हो रहे हैं। लोग बीमार व्यक्ति की जानकारी देने में डरे नहीं, क्योंकि बीमार व्यक्ति की टेस्टिंग होने से उसका समुचित ईलाज हो पाएगा और संक्रमण को फैलने से रोका भी जा सकेगा। बीमार व्यक्ति को पहले होम आईसोलेट किया जाएगा।

यदि बीमार व्यक्ति के पास घर में रहने की पृथक से व्यवस्था नहीं हो तो उसे ग्राम पंचायत द्वारा बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में रहने की सुविधा दी जाएगी। संक्रमित व्यक्तियों के उपचार के लिए शुजालपुर सिटी हॉस्पिटल में 50 ऑक्सीजनयुक्त बिस्तर बनाए गए हैं। साथ ही 100 बिस्तरीय अपनों के लिए अपना कोविड केयर सेंटर संचालित हो रहा है। इस प्रकार शुजालपुर में वर्तमान में कोरोना मरीजों के उपचार के लिए 150 बिस्तरों की व्यवस्था है। उन्होने कहा कि शुजालपुर में संचालित अपनो के लिए अपना कोविड केयर सेंटर को समाज के लोगों द्वारा विभिन्न प्रकार से मदद की जा रही है जो कि सराहनीय है। उन्होने कहा कि सर्वे के दौरान समाज के लोग एवं सर्वे दल के सदस्य चेहरे पर निराशा का भाव नहीं लाएं। बल्कि मुस्कुराहट के साथ कार्य करें और लोगों को निराशा के माहौल से बाहर निकालें। वैक्सीनेशन के प्रति वर्तमान में सोशल मीडिया पर नकारात्मक बातों का प्रचार-प्रसार हो रहा है, इससे भी लोगों को सावधान एवं सचेत करें। 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें और उन्हे बताएं कि इस टीके से नुकसान नहीं बल्कि फायदा है।

कलेक्टर ने बैठक में बताया कि पिछले वर्ष से मार्च तक जितने पाजिटिव केस आए थे, इस वर्ष उससे ज्यादा एक महीने में ही आ गए हैं इसलिए हमें कोरोना को हल्के में नहीं लेना है। इस बार का संक्रमण घातक है, मृत्यु ज्यादा हो रही है। ग्रामीण क्षेत्रों से ज्यादा प्रकरण आ रहे हैं। कोरोना संक्रमण की जांच के लिए टेंस्टिंग बढ़ा रहे हैं। पिछली बार कोरोना संक्रमण की संख्या कम हो जाने से लोग बेफिक्र हो गए थे, सुरक्षा के उपाय अपनाना बंद कर दिया था, जिसका नतीजा यह है कि अब संक्रमण बढ़ गया है जिस पर कंट्रोल करना पड़ेगा। सदस्य सभी लोगों को कोरोना गाईड लाईन का पालन कराने के लिए जागरूक करें। जनपद पंचायत सीईओ नितिन भट्ट ने बताया कि शुजालपुर जनपद पंचायत की 78 ग्राम पंचायतों में से 14 ग्राम पंचायतों में कोरोना का एक भी मरीज नही है। 20 ग्राम पंचायतों में कोरोना के मरीज पूर्व में थे, किन्तु अब नहीं हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे सर्वे में अब तक 25087 लोगों की जानकारी ली गई जिसमें 270 लोग अस्वस्थ पाए गए। इनमें से 21 लोगों को ग्राम पंचायत में क्वारंटाइन किया गया है, शेष अपने अपने घरों में आइसोलेटेड हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *