Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644
कोरोना से मुक्ति की मांगी दुआ
मस्जिदों में लटके रहे ताले
ईद का पर्व प्रेम, भाईचारा एवं अपनत्व का प्रतीकःएसडीओ

गया। जिले के शहरी एव सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच लगातार दूसरे वर्ष भी शुक्रवार को पवित्र रमजान माह के बाद ईद का पर्व सादगी के साथ मनाया गया। राज्य सरकार के गाइडलाइन की वजह से मस्जिदों में इमाम सहित केवल पांच नमाजियों ने ईद की नमाज अदा की। वहीं मुस्लिम समुदाय के बूढ़े, बच्चे, पुरुषों एवं महिलाओं ने नए-नए परिधानों से युक्त होकर सामाजिक दूरी का ख्याल रखते हुए अपने अपने घरों पर नमाज अदा कर देश एवं प्रदेश की सलामती, शांति का पैगाम एवं कोरोना से मुक्ति दिलाने हेतु अल्लाह से दुआ मांगी। शहर के जामा मस्जिद,छता मस्जिद,व्हाइट हाउस कंपाउंड मस्जिद, नादरगंज,पंचायती अखाड़ा,करीमगंज, अलीगंज, मुरारपुर,कठोकर तलाव स्थित सभी मस्जिदों एवं ईदगाह के मुख्य द्वार पर ताले लटके रहे। जिससे मस्जिदों के समीप भीड़भाड़ और मेले जैसा दृश्य नहीं दिखाई दिया। जिससे सन्नाटा छाया रहा।

इसे भी पढ़े : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिमान्य और गैर अधिमान्य पत्रकारों को लेकर की घोषणा

घरों में नमाज के बाद लोग दुबके रहे। बढ़ती संक्रमण के कारण लोग इस वर्ष मेहमान बाजी से बचते रहे। लोगों में इस वर्ष भी कोरोना का डर सता रहा था। जिससे लोग एक दूसरे को ईद पर अपने घर बुलाने में परहेज करने लगे। वही लोगों ने सामर्थ्य अनुसार गरीबों एवं जरूरतमंदों के बीच खैरात स्वरूप कपड़े और सेवईयां वितरित की।कोरोनावायरस की चेन तोड़ने के लिए लागू लॉकडाउन का असर ईद के त्यौहार पर भी देखने को मिला। सरकार के पाबंदियों के बाद ईदगाह एवं मस्जिदों में सन्नाटा छाया रहा। ईदगाह के समीप पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी दल बल के साथ मस्जिद के आसपास डटे हुए थे।वहीं घनी आबादी वाले इलाकों में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया।

मुस्लिम धर्मगुरुओं ने समुदाय के लोगों से अपने अपने घरों में नमाज अदा करने की अपील की थी, जिसके अनुसार अकीदतमंदो ने अपने घरों में ही नमाज अदा की।संक्रमण को देखते हुए पर्व पर लोगों में कोई खास उत्साह नहीं देखा गया।संक्रमण के कारण लोग एक दूसरे से गले लगने और हाथ मिलाने से परहेज करने लगे। लोग घरों में अपने परिवार के साथ बिता कर स्वादिष्ट सेवइयां एवं अन्य व्यंजनों का लुफ्त उठाया। कई लोग दिन भर टेलीविजन पर चिपके रहे तो कई इष्ट मित्रों केघर जाकर ईद की मुबारकबाद पेश की। बच्चों और युवाओं में ईद को लेकर कोई विशेष उत्साह नहीं देखा गया। बच्चों ने सुरक्षित होकर लोगों ने ईद का पर्व मामूली ढंग से मनाया।

इसे भी पढ़े : स्वास्थ्य विभाग का सरकारी कोरोना बुलेटिन भी बन गया खानापूर्ति

व्हाट्सएप,फेसबुक, टि्वटर एवं अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से शुभचिंतकों स्वजनों एवं परिवारजनों ने एक दूसरे को ईद की बधाइयां दी। इधर पर्व को शांतिपूर्ण संपन्न कराने के लिए संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील स्थानों पर मजिस्ट्रेट के साथ अतिरिक्त पुलिस बलों की तैनाती की गई थी। शहर की सुरक्षा व्यवस्था लॉकडाउन का जायजा लेने के लिए डीएम अभिषेक सिंह, एसएसपी आदित्य कुमार सदर एसडीएम इंद्रवीर कुमार सहित शहरी थानों की पुलिस अपने-अपने संबंधित थाना क्षेत्र के मस्जिदों में जाकर स्थिति का जायजा लिया। सदर अनुमंडल पदाधिकारी इंद्रवीर कुमार ने अल्पसंख्यक समुदाय को ईद की मुबारकबाद देते हुए कहा कि ईद का प्रेम भाईचारा और अपनत्व का प्रतीक है। उन्होंने शहर वासियों को शांतिपूर्ण तरीके से ईद मनाये जाने पर बधाई दी।

गया से अश्वनी कुमार की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *