Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

कोरोना से लडाई में आगे आए राजनेता एवं समाजसेवी

नागदा । वैश्विक महामारी कोरोना से लडाई में क्षेत्र के राजनेता एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा प्रतिदिन आगे आकर सहयोग प्रदान किया जा रहा है। इसी कडी में पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अशोक मालवीय एवं युवा व्यवसायी तथा समाजसेवी शशांक सेठिया के प्रयासों से सिविल हाॅस्पिटल को 6 लाख रूपये की आवश्यक दवाईयाॅं प्रदान की गई। उक्त दवाईयाॅं एसडीएम आशुतोष गोस्वामी एवं बीएमओ डाॅ. कमल सोलंकी को प्रदान की गई।
पूर्व नपाध्यक्ष श्री मालवीय आवश्यक दवाईयाॅं प्रदान करते हुए कहा कि कोरोना महामारी से निपटने हेतु पुरा देश एक बडी लडाई लड रहा है। ऐसे में हम सभी का दायित्व बनता है कि अपने-अपने स्तर पर जो भी सहायता कर सकते हैं निश्चित करना चाहिए। इसी के चलते उनके द्वारा 5 लाख रूपये लागत के आवश्यक इंजेक्शन एवं अन्य दवाईयाॅं प्रदान की है।


यह थे उपस्थित

श्री मालवीय एवं श्री सेठिया द्वारा सिविल हाॅस्पिटल में दवाईयाॅं प्रदान करते समय पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत, हिन्दु जागरण मंच के प्रांतीय उपाध्यक्ष भैरूलाल टाक, अनुविभागीय अधिकारी श्री गोस्वामी, नगर पुलिस अधीक्षक मनोज रत्नाकर, थाना प्रभारी श्यामचन्द्र शर्मा, बीएमओ डाॅ. सोलंकी, प्रकाश जैन, हरीश अग्रवाल, कमल शर्मा, मंडल महामंत्री साहिल शर्मा, श्रीराम निवास स्वामी, राधेश्याम मकवाना, राजू चैधरी आदि उपस्थित थे।


बाॅक्स
पूर्व में भी की थी मुक्तहस्त से मदद

गौरतलब है कि कोरोना महामारी की पहली लहर में भी पूर्व नपाध्यक्ष मालवीय द्वारा शहर के नागरिकों के लिए काफी मदद प्रदान की थी। राशन कीट के साथ-साथ अन्य आवश्यक सामग्री भी उनके द्वारा प्रदान की गई। इसी प्रकार महामारी के चलते अपनी नौकरी गंवा चुके ठेका श्रमिकों को भी हजारों राशन कीट मालवीय के द्वारा प्रदान की गई थी।


बाॅक्स
स्वस्थ्य होते ही जरूरतमंदों के लिए एक लाख की दवाईयाॅ प्रदान की

युवा व्यवसायी एवं सामाजिक कार्यो में हमेशा अग्रणी रहने वाले नरसिंह मेडिकल के संचालक शशांक सेठिया कोरोना महामारी के दौरान भी लगातार नागरिकों को दवाईयाॅं उपलब्ध करवा रहे थे। लेकिन अचानक ही वह स्वयं भी कोरोना संक्रमित हो गए। बिमारी के लक्षण के साथ ही सेठिया ने अपने प्रतिष्ठान को बंद कर दिया था, जबकि शहर में ऐसे कई मामले आऐ है जबकि संक्रमण के बाद भी परिजन व्यवसाय करते देखे गए। लेकिन सेठिया ने अपने सामाजिक दायित्वों को निभाया। उपचार के दौरान सेठिया 7 दिनों तक उज्जैन के तेजनकर अस्पताल में भर्ती भी रहे तथा स्वस्थ्य होने के बाद व्यवसाय प्रारंभ नहीं करते हुए स्वयं दुसरे मरीजों के बचाव हेतु दवाईयाॅं एकत्रित करने में लग गए तथा 1 लाख रूपये स्वयं वहन करते हुए आवश्यक इंजेक्शन एवं दवाईयाॅं मंगवा कर सिविल हाॅस्पिटल को प्रदान की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *