Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644


उज्जैन,। कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है…चारांे तरफ हाहाकार मचा हुआ है…कहीं किसी अस्पताल में बिस्तरों की कमी है तो कहीं आॅक्सीजन नहीं मिलने के कारण कोरोना मरीज दम तोड़ रहे है। समाजसेवी संस्थाएं गरीबों और निःसहायों के लिए भोजन की व्यवस्थाएं करने में जुट गई है…लेकिन इधर श्मशान घाटों पर लाशें फूंकते फूंकते मशीनें दम तोड़ने लगी है वहीं लकड़ियों व कंडों की भी कमी होने
से शवों को जलाने आने वाले संबंधितों के परिजनों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है…चारों
तरफ चिताएं जल रही है…!

इसे भी पढ़े : कोरोना संक्रमण से सुरक्षा हेतु चल रही शासन की गाइडलाइन का आम जनता भी सख्ती से पालन कर रही

पिछले 1 सप्ताह से चक्रतीर्थ पर चारों ओर दिन रात चिताएं जलती नजर आ रही हैं। प्रतिदिन 20 से 25 शव अंतिम संस्कार के लिए पहुंचना बताए जा रहे हैं। त्रिवेणी स्थित श्मशान घाट पर भी कोरोना से मरने वालों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। लगातार बढ़ रही मरने वालों की संख्या को देखते हुए ओखलेश्वर घाट पर भी अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर काफी तेजी से फैल रही है इस बीच एकाएक मरने वालों की संख्या भी बढ़ चुकी है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के कोरोना हेल्थ बुलेटिन से पता लग रहा है कि कोरोना के ज्यादा लोगों की मौत नहीं हो रही है। लेकिन प्रतिदिन शिप्रा नदी स्थित चक्रतीर्थ पर 20 से 25 शव अंतिम संस्कार के लिए पहुंच रहे हैं। कभी-कभी यह संख्या 30 से 35 पहुंच जाती है। चक्रतीर्थ पर बनाए गए अंतिम संस्कार के ऊपरी हिस्से से लेकर शिप्रा किनारे बने अंतिम संस्कार स्थल तक चिताएं जलती नजर आ रही है।

त्रिवेणी स्थित श्मशान घाट पर भी कोरोना के संक्रमित होकर जान गंवाने वाले लोगों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि शहर के दो श्मशान घाटों में हो रहे अंतिम संस्कार के साथ अब ओखलेश्वर स्थित घाट पर भी अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। बताया जा रहा है कि प्रतिदिन शहर में 40 से 50 लोगों का अंतिम संस्कार हो रहा है। जिसमें से अधिकांश मरने वाले सामान्य बीमारियों और वृद्धा अवस्था के शामिल है, लेकिन ऐसे समय में अचानक मरने वालों की संख्या चिंता का विषय बनी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *