Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

न्यायालय माननीय श्रीमान एन.पी. सिंह, जिला एवं सत्र न्यायाधीश महोदय, जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा आरोपीगण 01. हनी उर्फ सर्जन पिता दिलीप उर्फ बिन्नू उम्र-23 वर्ष 02. सन्नी उर्फ शुभम पिता दिलीप उर्फ बिन्नू उम्र 21 वर्ष निवासीगण अंकपात मार्ग उज्जैन को धारा 323 भादवि में आरोपीगण को 01-01 वर्ष का सश्रम कारावास एवं कुल 2,000/-रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

इसे भी पढ़े : IPL से पहले सुरेश रैना को लगा झटका, UP टीम से हुए बाहर, भुवनेश्वर को मिली कप्तानी



उप-संचालक (अभियोजन) डॉ0 साकेत व्यास ने अभियोजन की घटना अनुसार बताया कि घटना इस प्रकार है, कि दिनांक 24.03.2018 को फरियादी दिनेश ने थाना जीवाजीगंज पर उपस्थित होकर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई कि मैं 16 कोर ऐयर स्पोट सिगंल यूनिट आर्मी में नगरोटा जम्मू में पदस्थ हूॅ और अभी मेरी पोस्टींग हिमाचल प्रदेश में है।

मैं 13 दिन की छुट्टी पर अपने घर आया हूॅ, आज मे अपने नाना ससुर को डॉक्टर को दिखाने हेतु चैरीटेबल हॉस्पीटल अपनी मोटरसायकल से करीब शाम 4ः30 बजे आया था मैने चेरीटेबल हॉस्पीटल के पास बैक ऑफ इंडिया ए.टी.एम. के सामने गन्ने के ज्यूस के ठेले के पास अपनी गाडी खडी करके अपने नाना ससुर को अस्पताल के लिये गया, तभी गन्ने के ज्यूस वाले ने मेरी गाडी को हटाकर रोड पर कर दी।

इसे भी पढ़े : पिक अप उपर चांवल के कट्टे नीचे भरे थे गौवंश

मैने जब उससे कहा कि मेरी गाडी क्यो हटाई तो हनी एवं सन्नी ने मुझे मॉ बहन की नंगी-नंगी गालिया देने लगे मैने गाली देने से मना किया तो हनी ने पास मे रखा लोहे का पाईप उठाकर मेरे सिर मे मारा जिससे मुझे सिर मे चोंट लगी व खून निकलने लगा।

सन्नी ने भी लोहे के पाईप से मुझे मारा जो मेरे दाहिने हाथ के अंगूठे के पास वाली अंगुली मे काफी चोट लगी जिससे खून निकलने लगा। जाते जाते दोनो बोले कि आइंदा हमारे से कभी उलझे तो तुझे जान से खत्म कर देगे।  फरियादी की उक्त रिपोर्ट पर से थाना जीवाजीगंज पर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध की गई।

इसे भी पढ़े : J&K को लेकर अमेरिका ने किया भारत का समर्थन, चिढ़ा पाकिस्तान

आवश्यक अनुसंधान पश्चात अभियोग पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्काे से सहमत होकर आरोपीगण को दंडित किया गया।

प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्री राजकुमार नेमा, डी.पी.ओ. जिला उज्जैन द्वारा पैरवी की गई।

Leave a Reply