Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644


लड़की की नौकरी बैंक में लगाने के लिए 10 लाख की मांग की थी,

नहीं देने पर बदनाम किया,

9 महीने पहले झांसी एसपी को भी की थी शिकायत-झांसी एसपी की जांच में भी दोषी नहीं पाए गए एएसआई


उज्जैन। झांसी जिले के कोछा भांवर निवासी भगवानदास भास्कर द्वारा लगाये आरोप झूठे निकले। महिला आयोग को की गई शिकायत में आयोग द्वारा दी गई रिपोर्ट में सहायक उपनिरीक्षक जयराम अहिरवार तथा उनके पुत्र को निर्दोष माना है। एसपी झांसी द्वारा की गई जांच में भी भगवानदास द्वारा लगाए आरोप गलत पाए गए हैं।

एएसआई अहिरवार ने कहा कि भगवानदास द्वारा पिछले 1 वर्ष से बेटी को नौकरी दिलाने के नाम पर 10 लाख रूपयों की मांग की जा रही थी, नहीं देने पर यह सब प्रपंच रचा गया। इस मामले में एएसआई अहिरवार द्वारा स्वयं को तथा पुत्र आरक्षक संदीप को बदनाम करने कई जगह झूठी शिकायतें करने पर भगवानदास के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया है।


एएसआई जयराम अहिरवार ने बताया कि मेरे द्वारा संदीपकुमार का रिश्ता भगवानदास भास्कर निवासी कोछाभांवर जिला झांसी की पुत्री रेणु से 4 फरवरी 2019 को तय किया था। भगवानदास भास्कर द्वारा शादी की तारीख 20 अप्रैल के एक महीने पहले मार्च 2020 के अंतिम सप्ताह में फोन पर बताया कि उनकी पुत्री रेणु की बैंक में नौकरी लग रही है जिसके लिए 10 लाख रूपये की व्यवस्था करना है, मैने कहा मेरे पास तो व्यवस्था नहीं हो पायेगी साथ ही बताया कि बैंक की नौकरी के लिए किसी को रिश्वत देने की आवश्यकता नहीं है।

इसे भी पढ़े : म्यांमार के हालात पर अब संयुक्त राष्ट्र एक्टिव, होगी UNSC की बैठक

ऑनलाईन परीक्षा होती है और ऑनलाईन ही रिजल्ट आता है, आप किसी को रिश्वत देने के चक्कर में मत पड़ो। इसके दो दिन बाद पुनः भगवानदास भास्कर ने बताया कि वे इस साल शादी नहीं करेंगे। इसके बाद हम 18 फरवरी को रिश्तेदारों के साथ झांसी पहुंचे तथा रिश्ता कराने वाले द्वारकाप्रसाद यादव को बुलाकर बातचीत की तो उन्होंने लड़की रेणु को नौकरी के लिए दस लाख रूपयों की मांग रख कर शादी करने से मना कर दिया।

बीचवान द्वारकाप्रसाद यादव ने कहा कि आप 5 लाख की व्यवस्था कर दो बाकी 5 लाख की व्यवस्था भगवानदास मास्टर कर देंगे। हमने इंकार किया तो भगवानदास रेणु की नौकरी के बहाने दस लाख के लिए ब्लेकमेल करने लगे। नहीं देने पर वह स्वयं रिश्ता तोड़ रहे और पुत्र संदीप पर मोटर सायकल मांगने तथा मुझ पर रूपयो की मांग का आरोप लगा रहे हैं।

जबकि आज तक हमारे द्वारा कोई मांग नहीं की गई। मार्च 2020 माह में समस्त रिश्तेदारों के समक्ष बात हुई लेकिन भगवानदास नहीं माने उल्टा सगाई से पक्यात तक का खर्च बढ़ा चढ़ाकर वाट्सएप के माध्यम से भेज दिया गया, तब से भगवानदास द्वारा की जा रही ब्लैकमेलिंग से पूरा परिवार परेशान है। भगवानदास द्वारा महिला आयोग को शिकायत की गई थी, जिसमें एएसआई तथा उनके पुत्र आरक्षक को निर्दोष पाया गया है।


झांसी एसपी की जांच में भी झूठे निकले आरोप


इस घटनाक्रम की सहायक उपनिरीक्षक जयराम अहिरवार द्वारा झांसी एसपी को भी 18 मार्च 2020 में शिकायत की गई थी। शिकायत के बाद कोछा भांवर चौकी पर पदस्थ प्रधान आरक्षक यादव द्वारा फोन पर बताया कि लड़की के पिता भगवानदास शादी करने से मना कर रहे हैं, आप आपस में बैठकर निपटारा कर लें। इसके बाद कई बार रिश्तेदारों के माध्यम से बातचीत कर मामले का निराकरण करने की कोशिशें की लेकिन भगवानदास भास्कर नहीं माने।

अहिरवार ने बताया भगवानदास द्वारा राजनैतिक सहारा लेकर मेरे व मेरे पुत्र के खिलाफ झूठे आरोप लगाकर शिकायतें की जा रही हैं। 22 जनवरी को उज्जैन में एसपी को शिकायत की गई। इस मामले में एसपी झांसी द्वारा जांच की गई जिसमें एएसआई तथा आरक्षक दोनों निर्दोष पाये गये हैं।

इसे भी पढ़े : PM मोदी के नारे ‘आत्मनिर्भरता’ को ऑक्सफ़ोर्ड ने HWY-2020 के लिए चुना


शादी की तैयारियों में ही खर्च कर दिये 10 लाख


अहिरवार ने बताया भगवानदास भास्कर निवासी कोछाभांवर जिला झांसी की पुत्री रेणु से 4 फरवरी 2019 को तय किया था। उस समय मेरे द्वारा डेढ़ तोला सोने की चैन, साढ़े तीन ग्राम सोने की अंगूठी, एक चांदी की अंगूठी, छह तोला चांदी की पायजेब, एक चांदी का नारियल, साड़ियां, सूट, मेकअप बॉक्स, 2100 नगद एवं अन्य रिती रिवाज का सामान लड़की रेणु को दिया था।

इसके बाद 12 जनवरी 2020 को पक्यात का कार्यक्रम उज्जैन में हुउ जिसमें 20 अप्रैल 2020 का शादी का मुहूर्त निकला। झांसी बारात ले जाने के लिए गुरूनानक बस 40 हजार रूपये में बुक की गई, 23 अप्रैल को उज्जैन में रिसेप्शन कार्यक्रम के लिए पुलिस सामुदायिक भवन भी 4 फरवरी को 13 हजार रूपये में बुक किया गया। सामयाना, लाईटिंग व्यवस्था, डीजे एवं खाना बनाने वाले हलवाई सहित 85 हजार रूपयों में बुक किया गया।

शादी हेतु सोने के जेवरात 20 फरवरी 2020 को लड़की रेणु की पसंद के 3 लाख 52 हजार 500 रूपये एवं 55 हजार 480 रूपये में बनवाकर खरीदे गये। शादी की तैयारी में करीब 10 लाख खर्च कर दिये गये। ऐसे में भगवानदास द्वारा मांगी जा रही 10 लाख की राशि कहां से देता, इसलिए मना किया लेकिन भगवानदास द्वारा राशि नहीं देने पर रिश्ता तोड़ लिया गया।

Leave a Reply