Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में एनसीसी पाठ्यक्रम शुरू करने की कवायद हुई तेज।

गया।एनसीसी को कॉलेजों एवं एवं विश्वविद्यालयों के मुख्य पाठ्यक्रम और सीबीसीएस प्रणाली में शामिल करने के लिए दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय और एनसीसी बिहार एवं झारखंड निदेशालय साझा रूप से कंधे से कंधा मिलाकर चल रहा है।अगर सब कुछ सही समय रहा तो आगामी समय में एनसीसी को मुख्य पाठ्यक्रम में शामिल करने वाला बिहार देशभर में पहला राज्य बन सकता है।

सीयूएसबी के कुलपति प्रोफेसर हरिश्चंद्र सिंह राठौर और कुलसचिव कर्नल राजीव कुमार सिंह ने एनसीसी को मुख्य पाठ्यक्रम में शामिल करवाने के लिए आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए पहले ही उच्च पदाधिकारियों को आश्वासन दिलाया है।इसी के तहत सीयूएसबी के शिक्षा पीठ की सहायक प्राध्यापिका सह एनसीसी की एएनओ डॉ. प्रज्ञा गुप्ता ने एनसीसी बिहार एवं झारखंड निदेशालय के उच्च पदाधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक की।

इसे भी पढ़े : मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाने जा रहे कांग्रेसी गिरफ्तार

बैठक में एनसीसी बिहार एवं झारखंड निदेशालय के अपर महानिदेशक मेजर जनरल एम इंद्र बालन के साथ राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) के उपाध्यक्ष प्रो कामेश्वर झा, ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी प्रो शिवेश रंजन एवं रूसा कंसलटेंट शहबाज खान भी मौजूद थे। मेजर जनरल एम इंद्रबालन ने कहा कि वे पूर्ण मनोयोग से सीबीसीएस के तहत एनसीसी पाठ्यक्रम को लागू कराने हेतु दृढ़ संकल्पित हैं।


इस बैठक में एनसीसी के अपर महानिदेशक ने बताया कि किस प्रकार एसएससी पाठ्यक्रम को सीबीसीएस के तहत लागू करने पर बिहार के अधिक से अधिक छात्रों को एनसीसी से लाभान्वित किया जा सकेगा एवं यह उनके बेहतर भविष्य के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

इसे भी पढ़े : दुस्साहस : सरसों के खेत में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म का वीडियो वायरल, आरोपितों ने ब्लैकमेल कर 28 दिन तक किया दुष्कर्म


वहीं सीयूएसबी की डॉ. प्रज्ञा ने पाठ्यक्रम के तकनीकी बिंदुओं की जानकारी दी।रूसा के उपाध्यक्ष प्रो कामेश्वर झा ने इस प्रस्ताव का स्वागत करते हुये कहा कि यह बिहार के युवाओं की बेहतर शिक्षा एवं भविष्य के लिए एक सराहनीय कदम है।उन्होंने यह भी बताया की वह भी पहले इस दिशा में प्रयास कर चुके हैं। लेकिन कतिपय कारणों से यह पूरा ना हो सका।मेजर जनरल एम इंद्रबालन ने बताया कि यदि यह कार्य सफल होता है तो बिहार सीबीसीएस के तहत एनसीसी पाठ्यक्रम को पूरे प्रदेश में लागू करने वाला देशभर में पहला राज्य होगा।

Leave a Reply