Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644


उज्जैन।
शहर की दूसरे नंबर की सबसे बड़ी कॉलोनी आगर रोड़ स्थित इंदिरा नगर में आवारा कुत्तों का आतंक बना हुआ है। यहां कई लोग इन आवारा कुत्तों का शिकार हो रहे हैं। रहवासियों द्वारा कई बार शिकायत किये जाने के बावजूद नगर निगम प्रशासन इन आवारा कुत्तों की ओर ध्यान नहीं दे रहा है। ऐसे में यदि आवारा कुत्ता काटता है तो इसकी समस्त जिम्मेदारी नगर निगम प्रशासन की है।


इंदिरा नगर युवा विकास समिति के अध्यक्ष मंगेश श्रीवास्तव ने बताया कि इंदिरा नगर ईडब्ल्यूएस सेक्टर पानी की टंकी, एलआईजी सेक्टर, 90 क्वार्टर, 40 क्वाटर एवं इंदिरा नगर चौराहे पर आवारा कुत्तों का आतंक इस कदर बढ़ गया है कि आम लोगों एवं बच्चों का रात में निकलना दुस्वार हो गया है।

इसे भी पढ़े : अवयस्क बालिका के साथ छेडखानी करने वाले आरोपी को 03 वर्ष के कठोर कारावास की सजा

इन कुत्तों द्वारा बाहर खड़ी गाड़ियों के हजारों रूपये के कवर, तार काट देना रोज की बात हो गई है। कई कुत्ते बीमारी फैला रहे हैं, कई कुत्तों के सर पर जख्म हैं इन कीड़ों के कारण शहर में महामारी फैलने का भी डर बना हुआ है। किसी के सिर पर कीड़े निकल रहे हैं।

क्षेत्रीय नागरिकों द्वारा नगर निगम व जमादार से शिकायत करने के बाद भी आज तक कोई ठोस कार्यवाही नहीं हुई। इंदिरा नगर युवा विकास समिति के अध्यक्ष मंगेश श्रीवास्तव ने नगर निगम कमिश्नर से मांग की है कि आवारा कुत्तों का आतंक इंदिरा नगर में जल्द से जल्द खत्म हो, इसके लिए प्रयास करें।

आवारा कुत्तों को पकड़ने वाली गाड़ी के कर्मचारियों को भी उनकी भूमिका तय की जाये ताकि वह इस मोहल्ले से पकड़े गये आवारा कुत्तों को दूसरे मोहल्ले में छोड़कर अपने कर्तव्य की इतिश्री न कर लें।

इसे भी पढ़े : लाठी से मारपीट कर हत्या-कारित करने वाले आरोपी को न्यायालय ने दी आजीवन कारावास की सजा

अक्सर देखने में आता है कि कुत्ते पकड़ने वाली गाड़ी हमेशा कुत्ते पकड़कर दूसरे मोहल्लों में छोड़ देती है, जिस कारण शहर की कॉलोनियों, मोहल्लों में यह समस्या हल नहीं होती, केवल कुत्तों का आतंक एक मोहल्ले से दूसरे मोहल्ले में ट्रांसफर होता है। नगर निगम कमिश्नर से मांग की है कि कुत्तों के खिलाफ अभियान चलाकर उनकी नसबंदी की जाए ताकि शहर में आवारा कुत्तों का आतंक समाप्त हो सके।

Leave a Reply