Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644


श्री गणपति भगवान की आराधना से टल जाते हैं संकट, संतान की प्राप्ति, समस्याओं का होता निवारण


उज्जैन।
31 जनवरी रविवार को संकटी चौथ होगी। माघ मास चतुर्थी संकष्टी चतुर्थी का विशेष महत्व है, इस दिन भगवान गणेश जी की पूजा से लाभ होता है, इस दिन भगवान गणेश जी की और चंद्र देव की उपासना करने का विधान है जो कोई भी इस दिन श्री गणपति भगवान की आराधना करता है उसके जीवन के संकट टल जाते हैं साथ ही संतान की प्राप्ति होती है या फिर संतान संबंधित समस्याओं का निवारण होता है, हर तरह के कार्यों की बाधा दूर होती है धन तथा कार्य संबंधित समस्याओं का समाधान होता है।


ज्योतिर्विद अजय व्यास ने बताया कि संकटी चौथ को वक्रकुंडी चतुर्थी तिलकुटा चौथ के नाम से भी जाना जाता है। भगवान मंगल मुर्ति श्री गणेश जी बप्पा सुखकर्ता विघ्नहर्ता को प्रथम पूज्य आदि देव के रूप में पूजनीय माना जाता है धर्म जगत मूल के आधार है।

इसे भी पढ़े : जैकी श्रॉफ के फैन ने 1000 जरूरतमंदों को भेंट किए रजाई कंबल

भगवान गणेश जी को प्रसन्न करने के हेतु प्रातः काल स्नान करके सूर्य को अर्घ्य दें। गणेश जी की पूजा का संकल्प लें। दिन भर जलधारा या फल आहार ही ग्रहण करें भगवान गणेश का जाप करें। संध्याकाल में गणेश जी की विधि विधान से उपासना करें।

भगवान गणेश जी को तिल के लड्डू का भोग अर्पित करें चंद्रमा को प्रणाम करें हर जगह अपनी इच्छित मनोकामना हेतु प्रार्थना करें। संतान प्राप्ति के लिए भगवान गणेश जी को घी का दीपक लगाएं, चंद्रमा को अर्घ्य दें, तिल के लड्डू का भोग लगाएं। मंत्र ओम नमो भगवते गजाननाए या फिर वक्रतुंड का जाप करें।


संकट दूर करने के उपाय


ज्योतिर्विद अजय श्री कृष्ण शंकर व्यास ने बताया कि संकट दूर करने हेतु पीले वस्त्र पहन कर पूजन करें। जो मुखी या चार मुखी घी का दीपक लगाएं, तिल के लड्डू का भोग लगाएं, मंत्र ओम गं प्रार्थना करें। वक्रतुंड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ निर्विघ्नम कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा। ग्रह राशि अनुसार गणेश जी बप्पा जी की आराधना की जाए तो विशेष लाभ प्राप्त होता है।

Leave a Reply