Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644
दीपावली से सभी को कारोबार अच्छा चलने की उम्मीद

तनोडिया। पांच दिवसीय दीपावली कारोबारी और व्यापारियों के लिए रौनक लेकर आई है। दो दिवसीय त्रयोदशी के पहले दिन गुरुवार को जमकर धन बरसा। खरीददारी के लिए नगरवासियों बाजार में उमड़ पड़े। आज दीपावली का उत्साह दिखाई देगा। घर-प्रतिष्ठान दीपों की रोशनी से जगमगाएंगे और पटाखों की गूंज सुनाई देगी।कोरोना संक्रमण काल के बाद अर्थव्यवस्था बिगड़ चुकी थी।

इसे भी पढ़े : जिले में पिछले 24 घंटे में 2 लोगों की कोरोना से हुई मृत्यू

नवरात्रि और दशहरा पर्व फीका गुजरने के बाद पांच दिवसीय दीपावली से सभी को कारोबार अच्छा चलने की उम्मीद बनी हुई थी। दीपावली का पर्व नगरवासियों के साथ व्यापारी और कारोबारियों के लिए खुशियां लेकर आया है। अधिक मास के चलते एक माह देरी से आई दीपावली पर्व में त्योहार तिथियों के चलते दो दिन के हो गए थे।

पुष्य नक्षत्र से बाजार में रौनक की शुरुआत हो गई थी। धनतेरस का पर्व दो दिन का होने पर गुरुवार को पहले दिन बाजार में पैर रखने की जगह दिखाई नहीं दी। और शुक्रवार को सप्ताहीक हाट बाजार में खरीददारीके लिए ग्राम वासियों व नगरवासियों उमड़़ पड़े थे। बाजार पूरी तरह से ग्राहकों के लिए तैयार था। शाम ढलते-ढलते लाखों का कारोबार होना सामने आ गया। बर्तन बाजार, इलेक्ट्रॉनिक, आभूषण, कपड़ा बाजार से लेकर दीपावली पर्व से जुड़ी हर सामग्री की जमकर खरीददारी हुई। गुरुवार को भी धनतेरस का पर्व पर भगवान धन्वंतरि का पूजन किया गया। हाट बाजार पहुचंकर खरीददारी की गई।

इसे भी पढ़े : एसपी प्रियदर्शी द्वारा सपरिवार प्रभावती चेरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक शरद यादव के साथ दहीरपुर वृद्धाआश्रम अकबरपुर पहुंचकर कपड़े, मिठाई, फल बाटा

आज दीपावली का पर्व मनाया जाएगा। हिंदू सम्प्रदाय के सबसे बड़े पर्व में शामिल दीपोत्सव हर वर्ग से जुड़े लोगों के कारोबार के लिए खास माना जाता है। दीपावली पर भी खरीददारी जमकर होगी।शुक्रवार को रुप चतुर्दशी का पर्वदीपावली के पांच दिवसीय उत्सव में रुप चतुर्दशी का पर्व भी मनाया जाता है। दो तिथि एकसाथ होने पर धनतेरस के साथ शुक्रवार को रूप चतुर्दशी का पर्व भी शाम को मनाया गया।

पर्व को लेकर महिलाओं ने सजने-संवरने के लिए ब्यूटी पार्लर का रूख सुबह से ही कर लिया था। रूप चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है। यह पर्व शनिवार दोपहर तक तिथि के अनुरूप बना रहेगा। उसके बाद दीपावली की शुरुआत हो जाएगी।शुभ मुहूर्त में घर – घर और दुकान – दुकान पर शाम को होगी लश्र्मी पुजन। इस बार पटाखा बाजार में चायना के काफी कम पटाखे पहुंचे हैं। वहीं प्रशासन की नजर देवी-देवताओं के फोटो से बने पटाखों पर भी बनी हुई है।

Leave a Reply