Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

मामला 8 ट्रेक्टर और थ्रेसर , कल्टीवेटर , रोटावेटर के लिए एक करोड़ के लोन का

 

बेंक और कृषि अभियांत्रिकी विभाग सवालों के घेरे में एक करोड़ लोन की आखिर कौन भर रहा था किस्तें

 

सुसनेर से युनूस खान लाला की रिपोर्ट चिरंतन न्यूज़ के लिए

किसानों को खेती की उन्नत तकनीकी सिखाने के लिए उन्नत कृषि यंत्री यंत्रों की खरीदी पर शासन किसानों को कितनी ही सब्सिडी दें किंतु विभाग के जिम्मेदार व्यापारियों से सांठगांठ करके सब्सिडी हड़प कर जाते हैं । कुछ ऐसा ही मामला सोयत क्षेत्र के ग्राम श्रीपत पुरा में सामने आया है । श्रीपत पूरा में रहने वाले बद्री लाल जांगड़े के पुत्र पवन जांगड़े सोयत में एक ट्रैक्टर शोरूम पर पिछले सात सालों से काम कर रहे था । पवन जांगड़े के नाम पर करीब 8 ट्रेक्टर वा थ्रेसर सहित कई तरह के कृषि यंत्रों पर राजगढ़ जिले के ब्यावरा की एक राष्ट्रीय कृत बैंक के द्वारा करीब एक करोड़ के लोन दिया गया । इस मामले में घोटाला करने वालों का राष्ट्रीय कृत बैंक से लोन दिलाने के बाद जी नहीं भरा तो पवन के नाम पर एक ट्रैक्टर भी कोटक महिंद्रा जैसी बड़ी निजी कंपनी से फाइनेंस करवा दिया गया । जिस मजदूर के नाम से लोन दिया गया । अप्रैल 2022 में जिस पावन के नाम पर लोन दिए गए उस की अचानक मृत्यु हो ने के बाद उसे दिए कर्जे की वसूली के लेटर से इतना बड़ा कर्ज होने की जानकारी उसके पिता सहित परिजनों को मिली तो उनके होश उड़ गए । अब मजदूर पिता सहित परिजन कर्ज पटाने की चिंता में डूब गए हैं । पीड़ित पिता ने मामले में कार्यवाही के लिए एसपी सहित सोयत थाने में एक ट्रैक्टर एजेंसी संचालक के खिलाफ धोखाधड़ी होने के आवेदन भी दिया है । लेकिन करीब 5 माह से अधिक समय से चक्कर काटने के बावजूद भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है । इस पूरे मामले में कृषि अभियांत्रिकी विभाग उज्जैन के जिम्मेदारों की भूमिका तो सवालों के घेरे में है ही साथ ही वहां भी सवाल है कि इन लोन पवन के नाम निकलवाने के बाद लोन की किस्तें आखिर कौन जमा कर रहा था और पुलिस किस दबाव के चलते अभी तक खामोशी साधे हुए हैं । जबकि इस मामले में सब्सिडी के नाम पर करोड़ों की धोखाधड़ी शासन के साथ होने की आशंका पैदा हो रही है। प्रशासन की जिम्मेदार अप्रैल 2018 से अप्रैल 2022 के बीच आगर जिले में कितने किसानों को कृषि यंत्रों के नाम पर शासकीय तौर पर कितनी सब्सिडी मिली है इसकी जांच कर ले तो करोड़ों का घोटाला सामने आ सकता है ।

मृतक के पिता ने उठाए कई सवाल —-

मृतक के पिता बद्री लाल जांगड़े ने इस पूरे मामले में कई तरह के सवाल खड़े किए हैं ।पहला यह कि आखिर एक मजदूर को कैसे एक राष्ट्रीय कृत बैंक द्वारा इतना बड़ा लोन दे दिया । जिस बैंक द्वारा इतना बड़ा लोन दिया गया है । वहा आगर जिले से अलग जिला राजगढ़ जिले में स्थित है यानी आगर जिले के निवासी को दें देना उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं था तो फिर लोन कैसे दिया गया । सूत्रों के अनुसार युवक को लोन किस अनुसूचित जाति जनजाति के लिए चलाई जा रही शासकीय योजना के तहत दिया गया था तो क्या यहा पूरा खेल योजनाबद्ध तरीके से सब्सिडी हड़पने के लिए किया गया था । पीड़ित पिता के अनुसार इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है कि लोन में निकाले गए ट्रैक्टर और मशीनें कहां है और किस हालत में है । सवाल यह भी है कि आखिर कैसे एक साथ 8 ट्रैक्टरों का किसी एक ही व्यक्ति के नाम पर फाइनेंस कर दिया गया । फिलहाल सोयत पुलिस मामले में जांच करने की बात कर रही है

इनका कहना

बद्री लाल जांगड़े की शिकायत मिली है ।पुलिस इस मामले की सभी पहलुओं से जांच कर रही है ‌ जांच में बैंक से जानकारी मांगी जाएगी कि किन योजनाओं के तहत लोन स्वीकृत किए गए । इस पूरे मामले में कृषि अभियांत्रिकी विभाग की क्या भूमिका है ।इसकी भी जांच की जाएगी । पुलिस जल्दी ही सारे मामले का खुलासा कर देगी ।

रणजीत सिंह सिंगार थाना प्रभारी सोयत 

Leave a Reply

%d bloggers like this: