Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

दसवे दिन पिंडदानियो ने गयाकूप में किया पिंडदान

गया।सतरह दिवसीय त्रिपाक्षिक गया श्राद्ध के दसवे दिन मंगलवार को गया कूप वेदी पर पिंडदानियो ने अपने पूर्वजों के निमित्त पिंडदान किया। पिंडदानी श्राद्ध कर्म की प्रक्रिया पूरी करते हुए गया कूप में पिंड विसर्जित कर अपने पितरों के मोक्ष प्राप्ति की कामना की। पूरा गया कूप का परिसर पिंडदानियो से पटा हुआ था। चारों तरफ पुरोहितों के पितृ अनुष्ठान के मंत्र गूंज रहे थे। तीर्थ यात्रियों के अधिक भीड़ होने के कारण चप्पा चप्पा भरा हुआ था। कई लोग स्थान के अभाव में जहां तहां पिंडदान करते देखे गए। हर किसी के चेहरे पर अपने पितरों के प्रति आस्था दिख रही थी। इस बीच अपने पितरों को याद कर वह काफी भावुक हो उठे। श्राद्ध करने के उपरांत पिंडदान भगवान विष्णु के दर्शन और पूजन के लिए कतार में खड़े होकर गर्भ गृह मे प्रवेश कर विष्णु चरण पर पिंड अर्पित करते देखे गए।

पटना से आए तुलस्यान परिवार 17 दिवसीय गया श्राद्ध करने पहली बार आए हैं। वे अपने पितरों के निमित्त शांति के लिए आचार्य पवन पांडेय के निर्देशन में गया जी में आकर 17 दिवसीय कर्मकांड संपन्न कर रहे हैं। मौके पर आचार्य ने बताया कि तुलस्यान परिवार अपने 12 कुुलो के उद्धार के लिए गया श्राद्ध कर रहे हैं। गया श्राद्ध के दसवें दिन का विशेष महत्व है। गया कूप में श्राद्ध-तर्पण करने से अश्वमेध यज्ञ के समान फल की प्राप्ति होती है। पटना से आए परिवार के सदस्यों में गोपी तुलस्यान, कन्हैया तुलस्यान, अंजनी तुलस्यान, अशोक कुमार,गोपाल तुलस्यान सहित परिवार के सदस्य अपने पितरों के मोक्ष की कामना को लेकर गया श्राद्ध करने में तल्लीन दिख रहे हैं। इधर पितृपक्ष मेले को लेकर पुलिस प्रशासन की ओर से सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। विष्णुपद देवघाट सहित संपूर्ण मेला क्षेत्र में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बलों की तैनाती की गई है। अब पितृपक्ष मेला अवसान की ओर है। 1 दिन 2 दिन और 3 दिन कर्मकांड करने वाले पिंडदानियों का आगमन हो रहा है। बुधवार को एकादशी तिथि के दिन पिंंडदानी गया शिर वेदी पर खोवा से पिंडदान करेंगे।

Leave a Reply

You missed

%d bloggers like this: