Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

TI ने पहली पत्नी से कहा था ,’एक महिला पुलिसकर्मी ने नाक में दम कर दिया ‘है, इसका कुछ करना होगा,’

रंजना को गाड़ी भी दे दी, लेकिन उसकी डिमांड कम ही नहीं हो रही, क्या करूं,

इंदौर में TI के शूट एंड सुसाइड केस में उनके छोटे भाई रामगोपाल सिंह पवार ने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। रामगोपाल ने बताया कि TI अपनी पहली पत्नी लीलावती के संपर्क में थे। वो ढाई महीने पहले ही उससे मिलने उज्जैन के नानाखेड़ा गए थे। TI ने लीलावती से कहा था, ‘एक महिला पुलिसकर्मी ने नाक में दम कर दिया है। इसका कुछ करना होगा।’ बता दें, भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में पदस्थ TI हाकम सिंह ने 24 जून को इंदौर पुलिस कंट्रोल रूम में खुद को गोली मार ली थी। इससे पहले उन्होंने महिला ASI रंजना खाण्डे को गोली मारी थी। 

इसे भी पढ़े : इंस्टाग्राम पर की दोस्ती , फिर शुरू हुआ रेप और ब्लैकमेलिंग का शिलशिला

रामगोपाल सिंह पवार से जानिए अब तक की पूरी कहानी…

बड़े भाई की उम्र 18 साल थी, जब नानाखेड़ा के पास खाखरिया सुल्तान में रहने वाली लीलावती से उनकी शादी हुई। पिता की मौत चुकी थी, मां चंदा बाई ने भाई की शादी करवाई थी। परिवार में 3 बहन और हम दो भाई हैं। भाई-भाभी को बच्चे नहीं थे। इसलिए मेरा बेटा भूपेंद्र जब 5 साल का था, तब उन्होंने उसे गोद ले लिया। ढाई महीने पहले ही हाकम भाई नानाखेड़ा आए थे। यहां भाभी और भूपेंद्र रहते हैं। भाई अपने परिवार से कुछ भी नहीं छुपाते थे। उन्होंने भाभी और भूपेंद्र को बताया था कि एक महिला पुलिसकर्मी उन्हें परेशान कर रही है। वो कह रहे थे कि, उसको गाड़ी भी दे दी, लेकिन उसकी डिमांड कम ही नहीं हो रही, क्या करूं।

इधर तीसरी पत्नी रेशमा ने बताया…

इंदौर के खुडैल थाने से हाकम सिंह का तबादला सारंगपुर हुआ था। उस दौरान मेरे पास रंजना का फोन आया। तब हाकम सिंह घर पर नहीं थे। फोन पर हमारी लंबी बहस चली। उसने बार-बार मुझसे मिलने की बात कही, लेकिन मैंने मना कर दिया। मैंने उससे कहा, तुम हमें परेशान करना बंद कर दो, नहीं तो मैं आत्महत्या कर लूंगी। इसके बाद उसने अपना नंबर बंद कर लिया। जब हाकम सिंह सारंगपुर से लौटे, तो मैंने रंजना के बारे में पूछा। उन्होंने मेरा और खुद का फोन तोड़ दिया।

हाकम सिंह ने कहा था कि उनके रिटायरमेंट में दो साल बचे हैं, जिसके बाद दोनों हमेशा साथ रहेंगे। वो भोपाल से देवास ट्रांसफर करवाना चाहते थे। एक माह पहले हम दोनों देवास के अमलतास हॉस्पिटल गए थे। जहां हम दो दिन रुके भी थे। देवास के कई अधिकारी जानते हैं कि जागृति और हाकम सिंह साथ रहते थे।

मैंने अपने बयानों में आत्महत्या के पीछे रंजना द्वारा धमकी देने और ब्लैक मेल करने की बात पुलिस को बताई, लेकिन पुलिस ने रंजना का नाम नहीं लिखा। वो बार-बार मुझसे कह रहे थे कि तुम्हारे पास क्या सबूत है कि रंजना ने धमकी दी। घटना के 6 दिन बाद भी रंजना से किसी प्रकार की कोई पूछताछ नहीं हुई है। रंजना बिलकुल स्वस्थ है। अस्पताल में भर्ती होकर वो पुलिस को गुमराह कर रही है। वहीं अब तक रंजना का मोबाइल पुलिस को नहीं मिला है।

रंजना रख रही रेशमा की पूरी खबर

TI हाकम सिंह की तीसरी पत्नी रेशमा जिस समय थाने में अपने बयान दर्ज करवा रही थी, उस समय ASI रंजना का फोन थाने की महिला आरक्षक के पास आया था। इससे यह साफ होता है कि रंजना को रेशमा की पूरी जानकारी थी। रेशमा ने कहा, रंजना को चेहरे से नहीं पहचानती थी, लेकिन घटना के बाद मीडिया पर उसके बयान चले, वह जिस तरह से मटक-मटक के बोल रही थी, उससे वह आवाज पहचान गई। थाने में फोन आया तो उसकी आवाज समझ आ गई। रंजना रेशमा की पूरी खबर रख रही थी।

इसे भी पढ़े : TI सुसाइड केस में इतने राज ,हर रोज खुल रहे नए पन्ने !

अस्पताल में फेसबुक चला रही घायल ASI

TI ने जिस महिला ASI रंजना खाण्डे को गोली मारकर घायल किया था, वो पिछले चार दिनों में दो बार फेसबुक मैसेंजर पर ऑनलाइन आ चुकी है। जबकि पुलिस अधिकारियों की मानें तो ASI का मोबाइल उन्हें नहीं मिला है। रविवार को रंजना अपने फेसबुक मैसेंजर को हैंडल कर रही थी। इसके बाद गुरुवार को अचानक सुबह आठ बजे से रंजना अपने फेसबुक मैसेंजर पर ऑनलाइन दिख रही थी। कुछ देर बाद वह ऑफलाइन हो गई।

Leave a Reply

%d bloggers like this: