Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644
क्लीनिक खोलकर मरीजों का इलाज कर रहे  

उज्जैन। जिला दंडाधिकारी  आशीष सिंह के निर्देश पर  तहसीलदार  अभिषेक शर्मा, मेडिकल ऑफिसर डॉ जितेंद्र द्वारा बिना सक्षम योग्यता( डिग्री )के मरीजों का इलाज करने एवं कोरोना  गाइडलाइन का  पालन न करने पर सिंधी कॉलोनी स्थित कृष्णानी दवाखाना सील कर दिया है. एस  डी एम  आर एम  त्रिपाठी  ने  बताया  कि उक्त अस्पताल  नंदकुमार  कृष्णानी द्वारा संचालित किया जा रहा था। लम्बे समय से शिकायत मिल रही थी।

शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में झोलाछाप डॉक्टरों ने अपनी दुकानें सजा रखी है यहां बिना किसी डिग्री के झोलाछाप डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे हैं ऐसा नहीं कि इसकी जानकारी प्रशासन को नहीं है जानकारी होने के बावजूद भी इन झोलाछापों पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है ग्रामीण क्षेत्र में भी बिना डिग्री के झोलाछाप डॉक्टर क्लीनिक खोलकर मरीजों का इलाज कर रहे हैं।

क्षेत्र में ऐसे डॉक्टरों की भरमार है जिनके पास न तो कोई वैद्य डिग्री है और न ही स्वास्थ्य विभाग में पंजीकृत है झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा जगह जगह दुकानों में क्लीनिक संचालित कर मरीजों को दवाइयां देकर उनके स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जा रहा है कई झोलाछाप डॉक्टर मरीजों को कमरे की दुकान में भर्ती कर उपचार कर रहे हैं स्वास्थ्य विभाग की ओर से ऐसे झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है इसके चलते बिना डिग्री वाले ये डॉक्टर बेपरवाह होकर अपने क्लीनिक सचालित कर रहे हैं।


कोरोना जैसी बीमारी के समय भी नही आ रहे बाज

शहर के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी झोलाछाप डॉक्टरों का धंधा फलफूल रहा है जहां मौसम बदलते ही झोलाछाप डॉक्टर ग्रामीण क्षेत्रों में सक्रिय हो गए हैं बिना डिग्री डिप्लोमा के इलाज कर रहे लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं लगातार शिकायतें मिलने के बाद भी विभागीय अफसर शांत बैठे हुए हैं ग्रामीण क्षेत्रों में झोलाछाप डॉक्टरों ने अपनी दुकानदारी जमा ली है ।

कोरोना जैसी बीमारी के समय भी झोलाछाप डॉक्टर लोगों का इलाज करने से बाज नहीं आ रहे हैं सर्दी खांसी के मरीजों को मेडिकल पर दवा देने के लिए मना किया गया है लेकिन यह झोलाछाप डॉक्टर ऐसे मरीजों का इलाज कर रहे हैं इलाज करते समय सावधानी भी नहीं बरती जा रही है और सर्दी जुखाम के मरीज को देखने के बाद यह दूसरे मरीजों का भी इलाज करना शुरू कर देते हैं वही स्वास्थ्य विभाग द्वारा झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई न करने के कारण ही इनकी हर ग्रामीण क्षेत्रों में तादाद बढ़ती जा रही है।

कार्रवाई न होने का फायदा उठाते हुए दूसरे जिले के भी फर्जी डॉक्टर भी ग्रामीण क्षेत्रों में आकर इलाज करने लगे हैं बदलते मौसम में जहां सर्दी खांसी व बुखार के मरीज बढ़ रहे हैं तो वही लोग बड़े डॉक्टरों को दिखाने की बजाय लोग इन झोलाछाप डॉक्टरों के पास अपना इलाज करा रहे हैं इलाज करने के एवज में झोलाछाप डॉक्टर्स शुल्क भी ले रहे हैं लगातार झोलाछाप डॉक्टरों की तादाद बढ़ने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ती जा रही है कोरोना जैसी महामारी में भी यह झोलाछाप डॉक्टर अपनी दुकान बुंलद इरादे से चला रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *