Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

शाजापुर। लंबे इंतजार के बाद आखिरकार आसमान से उम्मीद की बारिश ने बरसना शुरू कर दिया और इस बारिश के कारण सूखे पड़े सभी जलाशय लबालब हो गए। इस वर्ष मानसून की बेरूखी के चलते जिलेभर के जलाशय सूख गए थे, लेकिन शुक्रवार देररात से बदराओं ने तेज बूंदों के साथ बरसना शुरू कर दिया और बारिश का यह सिलसिला शनिवार को भी दिनभर रूक-रूककर जारी रहा जिसके चलते शहर के लोगों की वर्षभर प्यास बुझाने के एकमात्र जल स्त्रोत चिलर बांध में भी शाम 5 बजे तक करीब 11 फीट पानी जमा हो गया। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में नदी नाले उफान पर आने से पुल पुलिया डूब गए, जिसके चलते आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया। मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल बारिश का सिलसिला थम सकता है।


उल्लेखनीय है कि शुक्रवार देररात से बादलों ने तेज बूंदों के साथ बरसना शुरू कर दिया दूसरे दिन शनिवार को भी बदरा बरसते रहे जिसके कारण चीलर नदी, लखुंदर नदी उफान पर आ गई। लखुंदर के उफान पर आने से भदौनी पुलिया, रागबैल पुलिया से आवागमन बंद हो गया। वहीं भरड़ नाला, बादशाहीपुल, महूपुरा पुलिया, सपरीपुरा पुलिया सहित अन्य पुलियाओं पर चीलर नदी का पानी होने से आवागमन बंद रहा। बादशाहीपुल पर नदी के उफान पर आने से जाईहेड़ा, बाईहेड़ा, बिजाना सहित अन्य ग्रामीण इलाकों का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया। इसी तरह पीलियाखाल  के नाले में बढ़े पानी के कारण गोपीपुर, लोहरवास, भरड़, हिरपुरटेका, हिरपुरबज्जा सहित अन्य ग्रामीण अंचलों का शाजापुर से कुछ समय के लिए संपर्क टूट गया।


पानी ने तोड़ा तट बंधन


आसमान से बरसी तेज बूंदों की वजह से जिलेभर के छोट-बड़े नालों का पानी तट बंधन तोडक़र शनिवार को पुल पुलिया से बह निकला जिसकी वजह से कई स्थानों का शाजापुर मुख्यालय से संपर्क टूट गया। बारिश की वजह से भदौनी पुलिया पर लखुंदर के उफान पर आने की वजह से आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया। सपरीपुरा नाले पर भी तेज बहाव के साथ चीलर नदी बहती रही। इसीके साथ भदौनी पुलिया पर लखुंदर का तेज बहाव होने के बाद भी ट्रक चालक ने पुलिया पार करने की कोशिश की, लेकिन पानी के दबाव के चलते ट्रक बीच पुलिया पर जा फंसा। इस घटना के बाद चालक ट्रक से कूदकर फरार हो गया।


बांध का जल स्तर 11 फीट पहुंचा


गौरतलब है कि इस वर्ष देरी से ही सही लेकिन मानसून लोगों की उम्मीद की बारिश बनकर बरसा है और इसीके चलते शहर के लोगों की वर्षभर प्यास बुझाने वाले चीलर बांध का जल स्तर भी तेजी से बढ़ गया है। जल संसाधन विभाग के एसडीओ आरसी गुर्जर ने बताया कि शुक्रवार-शनिवार को हुई झमाझम बारिश की वजह से बांध का जल स्तर 3 फीट से बढक़र 11 फीट पर जा पहुंचा। वहीं विभागीय अधिकारियों की मानें तो बांध में जमा यह पानी शहर के बाशिंदों का पूरे साल कंठ तर करने के लिए पर्याप्त है। याने इस वर्ष लोगों की प्यास बुझाने जितना पानी बांध में जमा हो चुका है।


140 मिमी औसत वर्षा दर्ज


जिले में गत दिवस से शनिवार सुबह 8 बजे तक कुल 140 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई, जिसमें सर्वाधिक वर्षा तहसील कालापीपल में 211 मिमी, शुजालपुर में 200 मिमी, मोमन बड़ोदिया में 126 मिमी, शाजापुर में 110 मिमी एवं गुलाना में 53 मिमी वर्षा हुई है। इस प्रकार 01 जून से 22 अगस्त तक शाजापुर में 473.6 मिमी, मोमन बड़ोदिया में 700 मिमी, शुजालपुर में 624 मिमी, कालापीपल में 701 मिमी एवं गुलाना में 520 मिमी, इस तरह कुल 603.7 मिमी औसत वर्षा हुई है। पिछले वर्ष इस अवधि में 971.1 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई थी। इस प्रकार गतवर्ष की तुलना में इस वर्ष जिले में 367.4 मिमी औसत वर्षा कम हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *