Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

तीसरी तिमाही में लैंक्सेस की वृद्धि आशाजनक


नागदा। कोरोनोवायरस संकट के असर के बावजूद लैंक्सेस पटरी पर है। तीसरी तिमाही के बाद, स्पेशियल्टी केमिकल कंपनी इस वित्तीय वर्ष के लिए मार्गदर्शन निश्चित कर रही है और अब उम्मीद है कि संपूर्ण वर्ष के लिए ईबीआइटीडीए प्री एक्सेप्शनल्स 820 मिलियन यूरो और 880 मिलियन यूरो के बीच होगा।

इसे भी पढ़े : प्रधानमंत्री ने गोवा की पूर्व राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा के निधन पर शोक व्यक्त किया

पूर्व में अर्निंग्स 800 मिलियन यूरो से 900 मिलियन यूरो के बीच होने की उम्मीद जताई गई थी। गौरतलब है कि लैंक्सेस के प्लांट नागदा सहित देश के अन्य क्षेत्रों में भी स्थित हैं।


लैंक्सेस के प्रबंधन मंडल के चेयरमैन मैथियास जैशर्ट ने कहा, “हम कोरोनोवायरस संकट से उपजी मुश्किल परिस्थितियों में भी अपनी राह पर हैं और हमने अपने 2020 गाइडेंस को निर्दिष्ट कर लिया है। इस अस्थिर दौर और ढेर सारी अनिश्चितताओं को देखते हुए, यह पूरी लैंक्सेस टीम की एक बड़ी उपलब्धि है और मुझे इस पर अत्यंत गर्व है।


गत वर्ष के मुकाबले नीचे रहे आंकडे

तीसरी तिमाही में, 193 मिलियन यूरो पर, ईबीआइटीडीए प्री-एक्सेप्शनल्स पूर्व वर्ष के आंकड़े 269 मिलियन यूरो से  28.3 प्रतिशत नीचे रहा। ईबीआइटीडीए मार्जिन प्री एक्सेप्शनल्स घटकर 13.2 प्रतिशत रह गया, जो इससे पहले की तिमाही में 15.8 प्रतिशत था।

समूह की बिक्री 1.461 बिलियन यूरो रही, जो पिछले वर्ष के 1.704 बिलियन यूरो के आंकड़े से 14.3 प्रतिशत कम है। जारी परिचालनों से शुद्ध आय 79 मिलियन यूरो से 68.4 प्रतिशत गिरकर 25 मिलियन यूरो रह गई।

इसे भी पढ़े : चित्रकूट रोड स्थित गाड़ियां चौराहे दो युवकों पर अज्ञात बदमाशों ने किया चाकू से हमला

महामारी के अलावा, बेल्जियम में रखरखाव के लिए एक नियोजित बड़े शटडाउन, बिक्री मूल्यों में कमी के प्रभाव और प्रतिकूल विनिमय दर के प्रभाव, खासतौर पर अमेरिकी डॉलर से संबंधित, ने परिणाम पर बोझ डाला। इसके विपरीत, कंज्यूमर प्रोटेक्शन सेगमेंट में व्यवसाय बढ़िया ढंग से बढ़ता रहा। पिछली तिमाही की तुलना में बाजारों से भी सकारात्मक संकेत मिले।


लैंक्सेस एक विशेष बोनस का भुगतान करेगा


कोरोनावायरस महामारी के दौरान अपने कर्मचारियों की असाधारण प्रतिबद्धता के लिए लैंक्सेस एक विशेष बोनस का भुगतान करेगा। जैशर्ट ने कहा, ष्खासतौर पर, संयंत्रों में कार्यरत हमारे सहकर्मियों ने संकट के दौरान हमारे व्यवसाय को चालू रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इस बोनस के जरिए हम उन्हें और उन सभी को धन्यवाद देना चाहेंगे जिन्होंने पिछले महीनों में विशेष योगदान दिया है। कुल मिलाकर, लैंक्सेस उच्च एक-अंकीय मिलियन यूरो धनराशि वितरित करेगा। भुगतान की राशि विभिन्न कर्मचारी के लिए अलग-अलग होगी। जर्मनी में विशेष बोनस का भुगतान दिसंबर में किया जाएगा।

अन्य देशों में अलग-अलग नियम लागू होंगे। जैशर्ट ने कहा, “कई व्यवसायों में, हम संकेत देख रहे हैं कि चीजें बेहतर की तरफ मुड़ रही हैं। ऑटोमोटिव सेक्टर सहित प्रमुख ग्राहक उद्योगों में मांग दूसरी तिमाही के मुकाबले एक बार फिर से बढ़ी। विशेष रूप से, चीन और यू.एस. प्रोत्साहन दे रहे हैं।


सेगमेंट्स-कंज्यूमर प्रोटेक्शन मजबूत स्तंभ बना रहा


दूसरी तिमाही की तुलना में एडवांस्ड इंटरमीडिएट्स सेगमेंट में मांग दोनों व्यावसायिक इकाइयों में स्थिर रही, जिससे बिक्री की मात्रा करीब-करीब पिछले साल के स्तर पर पहुंच गई। बहरहाल, कम बिक्री मूल्य और विनिमय दर के नकारात्मक प्रभाव के चलते बिक्री और अर्निंग्स वार्षिक आधार पर कम रहे।

बिक्री 549 मिलियन यूरो से 14.4 प्रतिशत घटकर 470 मिलियन यूरो हो गई। 65 मिलियन यूरो पर रहा ईबीआइटीडीए प्री एक्सेप्शनल्स पूर्व वर्ष के आंकड़े 91 मिलियन यूरो से 28.6 प्रतिशत कम था। पिछले वर्ष के 16.6 प्रतिशत की तुलना में ईबीआइटीडीए मार्जिन प्री एक्सेप्शनल्स 13.8 प्रतिशत रहा। महामारी ने स्पेशियल्टी एडिटिव्स सेगमेंट पर तीसरी तिमाही में भी असर डाला।

विशेष रूप से मोटर वाहन और विमानन उद्योगों में मांग कम होने के कारण बिक्री में उल्लेखनीय गिरावट आई है। कम बिक्री कीमतों और नकारात्मक विनिमय दर प्रभाव का भी बुरा असर पड़ा। बिक्री 18.5 प्रतिशत घटकर 503 मिलियन यूरो से 410 मिलियन यूरो रह गई। 65 मिलियन पर ईबीआइटीडीए प्री एक्सेप्शनल्स पूर्व वर्ष के 97 मिलियन यूरो के आंकड़े से 33.0 प्रतिशत कम रहा। ईबीआइटीडीए मार्जिन प्री एक्सेप्शनल्स 19.3 प्रतिशत से घटकर 15.9 प्रतिशत रह गया।


संवहनीयता प्रमाणों को लगातार बेहतर बना रहा है लैंक्सेस


एक साल पहले लैंक्सेस ने घोषणा की थी कि यह 2040 तक जलवायु तटस्थ (क्लाइमेट न्यूट्रल) हो जाएगा, और अब इस स्पेशियल्टी केमिकल्स कंपनी ने संवहनीय जल प्रबंधन के लिए खुद नए लक्ष्य निर्धारित किए हैं। अपने वाटर स्टीवर्डशिप प्रोग्राम के तहत, लैंक्सेस शुरुआत में पानी की सबसे ज्यादा कमी वाले क्षेत्रों में चार साइट्स पर विशिष्ट स्थानीय परियोजनाओं के जरिए संवहनीय जल प्रबंधन को मजबूती देगा। इसका उद्देश्य 2023 तक इन कार्यस्थलों पर संपूर्ण जल निकासी को 15 प्रतिशत तक कम करना है।

फाइल फोटो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *