Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

दुकानदार भी चीनी के बजाए देशी झालर बाहर से मंगा रहे

अंबेडकरनगर!असत्य पर सत्य की जीत के रूप में मनाए जाने वाले दीपावली पर्व पर इस बार ज्यादातर घरों, प्रतिष्ठानों व मंदिरों पर रंगबिरंगी भारतीय झालरें छटा बिखेरती नजर आएंगी। बाजार में इस बार भारतीय झालरों ने चीनी झालरों को काफी पीछे छोड़ दिया है। उपभोक्ताओं का रुझान ज्यादातर देशी झालरों की खरीद की तरफ है। ग्राहकों के रुझान को देखते हुए दुकानदार भी चीनी के बजाए देशी झालर बाहर से मंगा रहे हैं। हालांकि चीनी झालरें भी इस सबके बीच अपनी उपस्थिति बनाए हुए हैं। सस्ती होने के चलते तमाम लोगों की पसंद अभी भी चीनी झालरें ही हैं।

इसे भी पढ़े : एसिड अटैक पीड़िता की मौत


रोशनी के पर्व में देशी झालरों की रोशनी इस बार चारों तरफ फैलेगी। दरअसल इस दीप पर्व पर ज्यादातर नागरिकों का रुझान देशी झालरों की खरीददारी की तरफ अधिक है। उपभोक्ताओं के देशी झालरों के प्रति बढ़ते रूझान को देखते हुए ज्यादातर दुकानदार चीनी झालर की बजाए देशी झालरों की बिक्री पर अधिक ध्यान दे रहे हैं। जिला मुख्यालय की प्रमुख बाजार शहजादपुर के दुकानदार अयाज ने कहा कि बीते वर्षों की तुलना में इस बार देशी झालरों की मांग अधिक है। इसे देखते हुए ही देशी झालरों को मंगाया गया है।


बताया कि 80 रुपये से 550 रुपये तक की देशी झालरों की बिक्री की जा रही है। 20 मीटर झालर 80 रुपये में, 55 मीटर वाली झालर 300 रुपये, 60 मीटर वाली झालर 330 रुपये, 80 मीटर वाली झालर 430 रुपये में बिक रही है। एक अन्य दुकानदार अरविंद ने कहा कि उपभोक्ताओं के रुझान को देखते हुए इस बार बिक्री के लिए ज्यादातर देशी झालरें ही बिक्री के लिए लाए हैं। सिर्फ मेल के लिए कुछ चीनी झालरें रखी गई हैं। कहा कि देशी झालर की तुलना में चीनी झालरें सस्ती हैं। ऐसे में आर्थिक रूप से कमजोरों की पहली पसंद चीनी झालरें ही हैं। ऐसे में उनकी पसंद को देखते हुए चीनी झालरें भी बिक्री के लिए रखना पड़ रहा है।


शनिवार को शहजादपुर में झालरों की खरीददारी करते अभिषेक व अनुराग ने कहा कि जब देश में ही बनी आकर्षक व टिकाऊ झालरें मिल जाती हैं, तो चीनी झालरें हम क्यों लें। दोनों के दाम में कुछ ही अंतर होता है। ऐसे में इस बार निर्णय लिया है कि देशी झालर से ही घर व प्रतिष्ठान को सजाएंगे। मीरानपुर की अनुष्का व साक्षी ने कहा कि पूर्व में वह ज्यादातर चीनी झालरों से घर को सजाती थीं, लेकिन इस बार न सिर्फ मिट्टी के दीप, बल्कि देशी झालरों से घर की सजावट करेंगी। कहा कि हम सभी को चाहिए कि चीनी सामग्रियों का पूरी तरह बहिष्कार करें और देश के विकास के लिए देशी सामग्रियों का ही प्रयोग करें।

अंबेडकर नगर से विकास कुमार निषाद की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *