Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644
ग्रामीणों द्वारा कई बार आवेदन देने के बाद भी नहीं हो रही सुनवाई

सोयत कला-समीप डोंगरगांव मैं आए दिन तार टूटने की जानकारी प्राप्त होती हैं कहीं बार तार टूटने की मौखिक शिकायत भी संबंधित अधिकारी से की जाती है सोयत कला शहर की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत है डोंगरगांव जिसकी कुल आबादी लगभग 12000 हैं ग्राम डोंगरगांव में 1200 घरेलू एवं गैर घरेलू कनेक्शन है तार कई वर्षों पुराने हैं जिसके कारण आए दिन तार टूटने फाल्ट होने की समस्या आती रहती हैं ।

एक ही तार को सात जगह जोड़कर विद्युत सप्लाई किया जा रहा है कहीं जगह पोल की स्थिति अत्यंत खराब है कहीं पोल क्षतिग्रस्त हो रहे हैं और कहीं सड़ चुके हैं ग्रामीणों में कभी भी बड़े हादसे होने का डर बना हुआ है ग्रामीणों द्वारा कहीं बार विद्युत मंडल सोयत कला पर लिखित आवेदन दिया गया है पर सिर्फ कार्रवाई कागजों पर ही सिमट कर रह जाती हैं या आश्वासन देकर छोड़ दिया जाता है।

गांव में विद्युत सप्लाई के तार 20 से30 सालों पुराने है पाटीदार मोहल्ले में तार नीचे झूलते दिखाई दे रहे हैं जो गांव का मेन रास्ता है कहीं लोगों का आना जाना लगा रहता है हॉट चौक शमशान घाट पाटीदार मोहल्ला कई जगह पोल क्षतिग्रस्त है पर जिम्मेदार अधिकारी बड़ा हादसा होने का इंतजार कर रहा है हाट चौक स्थित भी तार का मकड़जाल फैला हुआ है कहीं जगह से टेबलेट डालकर ग्रामीणों द्वारा बिजली लाई जा रही हैं जिससेआए दिन फाल्ट होती रहती हैं ।

ग्रामीणों तक बिजली सुचारू रूप से नहीं पहुंच पा रही हैं स्थानीय निवासियों जनप्रतिनिधियों सामाजिक संगठनों द्वारा पत्र के माध्यम से कार्यालय मैं जाकर कई बार अवगत करवाया हैं पर अभी तक विद्युत विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है अगर कुछ भी अप्रिय घटना घटती है तो इसका जिम्मेदार कौन बनता है।

सुपरवाइजर अमित कुमार शाह वरिष्ठ अभियंता विद्युत मंडल सोयत कला का कहना-क्षतिग्रस्त पोल और झूलते तार को बदलवाने के आवेदन आए थे हमने उनके ऊपर कार्यवाही कर 36लाख का प्रकरण बनाया है हमारे द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को भेज दिया गया है अप्रूवल नहीं मिलने से समस्या आ रही है अप्रूवल मिलते ही समस्या का समाधान कर दिया जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *