Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

अयोध्या

इसे भी पढ़े : सिपाही योगेश चौहान का शव इटावा के लबेदा थाना क्षेत्र में मिला

चिरंतन न्यूज़ की खबर का असर देश की हर खबर हम आप तक लगातार पंहुचा रहे हे


हाल ही में अयोध्या में तैनात एक सिपाही का शव इटावा जिले में मिला था। जिसके बाद से पुलिस टीमें इसकी जांच में लग गईं थी। अब इटावा पुलिस ने ये खुलासा किया है कि थाना रामजन्मभूमि में तैनात महिला सिपाही ही कांस्टेबल के हत्या की मास्टरमाइंड निकली। महिला सिपाही मंदाकिनी ने अपनी दो सगी बहनों व दो अन्य लोगों के साथ मिलकर सिपाही योगेश चौहान की हत्या की थी। इटावा पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।

ये है मामला: वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि आठ अक्टूबर को थाना लवेदी क्षेत्रान्तर्गत मानिकपुर से भादौपुर वाले रास्ते पर दादौरा नहर के पास एक अज्ञात शव बरामद किया गया था जिसकी पहचान थाना राम जन्मभूमि जिला अयोध्या में तैनात आरक्षी योगेश चौहान के तौर पर की गई थी। मृतक मथुरा का निवासी था। उसके भाई ने नौ अक्टूबर को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

उन्होंने बताया कि घटना के अनावरण के लिए क्षेत्राधिकारी भरथना के नेतृत्व में एसओजी इटावा व थाना लवेदी से दो टीमों का गठन किया गया था। गठित टीमों ने विभिन्न इलैक्ट्राॅनिक व मैनुअल साक्ष्यों को एकत्रित करते हुए कार्रवाई प्रारम्भ की गई थी। जिसमें कुल छह आरोपियों के घटना में संलिप्त होना पाया गया था। घटना कारित करने वाले 3 सगी बहनों सहित कुल 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

इसलिए की गई हत्या:

आरोपियों ने बताया कि मृतक सिपाही योगेश तथा मुख्य हत्यारोपी मंदाकिनी उर्फ संगीता थाना रामजन्मभूमि में आरक्षी पद पर तैनात थे। महिला आरक्षी योगेश से शादी करना चाहती थी जिसके लिए योगेश ने मना कर दिया गया था। मंदाकिनी ने इसकी जानकारी मथुरा में तैनात अपनी बड़ी बहन हेड कांस्टेबल मीना देवी और गांव में रह रही बड़ी बहन ममता को दी। मीना तथा ममता ने योगेश को कई बार फोन पर शादी के लिए राजी करने का प्रयास किया लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी।

योजनाबृद्ध तरीके से 7 अक्टूबर को योगेश व मंदाकिनी दोनों ही अवकाश लेकर अयोध्या से एक साथ रवाना हुए तथा बस के माध्यम से इटावा बस स्टैण्ड पहुंचे। इसी दौरान मीना अपने साथियों के साथ मथुरा से स्विफ्ट कार से इटावा आई एवं हत्यारोपी ममता भी गांव से इटावा आई तथा मृतक को सवारी के बहाने अपनी कार में बिठा लिया और मानिकपुर मोड की ओर ले जाते समय हत्या कर दी।

इस हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम ने बड़े ही मेहनत और लगन के साथ जांच की थी। जिसके चलते एसएसपी आकाश तोमर ने टीम को 25,000 का इनाम देने की घोषणा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *