Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN Editor - Neelam Dass, Add. - 105 Jawahar Marg, Ujjain M.P., India - Mob. N. - +91- 8770030644

सीतापुर से अजय सिंह के साथ श्री शुक्ला की रिपोर्ट


ये है स्वच्छ भारत मिशन की जीती जागती तस्वीर ————


मछरेहटा / सीतापुर । भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओ मे से एक है स्वच्छ भारत मिशन । जिसके तहत पूरे देश मे एक साथ अभियान चलाकर सरकार ने घर घर शौचालयो का निर्माण कराने की जिम्मेदारी पंचायती राज विभाग को सौंपी लेकिन सेक्रेटरी और प्रधानो ने मिलकर अच्छा खासा बंदरबांट किया जिसकी जीती जागती तस्वीर गांवो मे साफ दिखाई देती है ।और यह तस्वीर शौचालयो मे हुए बम्पर घोटाले को परत दर परत खोलने के लिए काफी है । मजेदार बात यह है कि सेक्रेटरी और प्रधानो के इस घालमेल की जानकारी जब विकास खंड मुख्यालय पर बैठे एडीओ पंचायत को दी जाती है तो वे किसी ठोस कार्रवाई करने मे खुद को असहाय पाते हैं ।


विकास खंड मछरेहटा की ग्राम पंचायत निघुवाम्ऊ मे बने इज्जत घरोअं की दुर्दशा जिम्मेदारों के मुह पर तमाचा है । ग्राम पंचायत मे आने वाले भट्ठा पुरवा रजकुलहापुर जकरियापुर गांवो मे बने शौचालयो पर दरवाजे के नाम पर पड़े परदे उखडी शीटे गिरता हुआ प्लास्टर विकास कार्यो के लिए जिम्मेदार अधिकारियो को शायद नजर नही आता । गांव के अंदर गलियो पर बहता गंदा पानी और टूटी-फूटी नालियो पर उगा झाड झंखाड सफाई व्यवस्था की हकीकत बयां करने के लिए काफी है । गांव मे एक शौचालय के ऊपर काफी समय से छत ही नही पड़ी थी जब संवाददाता ने प्रधान से कारण जानना चाहा तो उन्होंने बेरुखी से जवाब दिया कि अब कार्यकाल के अंतिम समय मे यह संभव नही है ।


सफाई व्यवस्था के बारे मे पूछे जाने पर गांव वालो ने बताया कि सफाईकर्मी तीन चार महीने मे एक बार आता है प्रधान के घर पर हाजिरी लगाकर चला जाता है । कमोबेश ग्राम पंचायत के सभी गांवों का यही हाल है । नाम न छापने की शर्त पर लोगो ने यह भी बताया कि इस समय आवास के नाम पर हो रहे सर्वे मे भी लोगो से दो दो सौ रुपए लिए जा रहे है । सेक्रेटरी विनय लोधी ने ब्लाक परिसर से बाहर किराये पर कमरा लेकर कार्यालय खोल रखा है जहां सहायक के रूप मे दलाल बैठकर गांव के विकास से संबंधित सारे काम निपटाता है । प्रधान और सेक्रेटरी की मिलीभगत से विकास के नाम पर पैसों के बंदरबांट का यह खेल निर्बाध तरीके से चल रहा है । यदि कभी कोई विभागीय जांच होती भी है तो वह सुविधा शुल्क के द्वारा कागजों मे ही गुम हो जाती है । ग्रामीणो ने कहा कि यदि निष्पक्ष जांच कराई जाए तो प्रधान के द्वारा किये गये भ्रष्टाचार की पोल खुल जायेगी ।

प्रधान द्वारा की गई अनियमितता के बारे मे जब खंड विकास अधिकारी संजय कुमार सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि गहन जांच करके उचित कार्रवाई की जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *